How To Check Fake or Real Website?

How To Check Fake or Real Website

दोस्तों अगर आप इंटरनेट से कनेक्टेड हो या व्हाट्सप्प चलाते हो तो कभी न कभी इस तरीको के मैसेज देखने को मिलते होंगे जैसे सेल -सेल सेल आ गयी हैं बड़े बड़े ब्रांड पर बड़ी-बड़ी सेल ले लीजिए amazon पर canon 80D सिर्फ 100 रुपए में vivo v19 सिर्फ 100 रुपए में अरे भैया pizza hut और domino,s pizza पर 90% off चल रहा हैं | एक व्हील को घुमाये और आपको मिल जायेगा pizza hut और domino,s pizza आपको मिल जायगे फ्री में अरे भैया प्रधानमंत्री आयुषमन भारत योजना में आपको 5-5 लाख मिल रहा हैं वह भी फ्री जहा पर आपको सिर्फ एक वेबसाइट का लिंक दिया जाता हैं ऊपर से निचे तक बहुत सी चीज़े बताई जाती हैं और आपको पूरा कन्विंस कर लिया जाता हैं की आप उस वेबसाइट पर जाइये आपके लिए कुछ ना कुछ फ्री हैं लेकिन रुको कभी सोचा हैं की ऐसी फ़र्ज़ी वेबसाइट आपके पास आ रही हैं तो दुनिया में इतनी सारी फ़र्ज़ी वेबसाइट हैं उनको पता कैसे लगये की कौन सी वेबसाइट फ़र्ज़ी हैं और कौन सी वेबसाइट असली

दोस्तों मैंने कुछ चीज़े डिज़ाइन की हैं जिसके मदद से आप लेवल बी लेवल decide कर सकते हैं की कौन सी वेबसाइट fake हैं और real

SSL Certificate

देखो सबसे पहले पॉइंट आता हैं कोई भी वेबसाइट आप visit कर रहो तो सबसे पहले आपको उसके url पर देखना हैं उसके पास SSL Certificate हैं की नहीं जो url में lock का symbol होता हैं या की वह वेबसाइट स्टार्ट कैसी होती हैं क्या वह httpसे होती हैं या https से होती हैं अगर https:// से स्टार्ट होती हैं तो first level के हिसाब से वह वेबसाइट थोड़ी सिक्योर हैं लेकिन आज के टाइम में https:// सबको फ्री मिलता हैं यह जो पॉइंट हैं 90% काम नहीं करेगा क्युकी https:// almost सारी वेबसाइट पर देखने को मिल जायेगा

official government website

अब सेकंड पॉइंट आता हैं जिसे आप validate कर सकेंगे की कौन सी वेबसाइट fake हैं और कौन सी वेबसाइट real हैं तो देखिए जो भी वेबसाइट का लिंक आपके पास आएगा यहाँ पर कुछ लोग आपने दिमाग लगते हैं इन मैसेज के अंदर जो लिंक होता हैं उसका short url बना देते हैं short url का मतलब होता हैं link आपको छोटा देखेगा आप उसको जो चाहे उसको बना सकते हो और जब आप उस पर क्लिक करंगे वह छोटा लिंक आटोमेटिक बड़ा link में ट्रांसफर हो जायगे और आपने जो लिंक को ओपन करा वह जो मैं में वेबसाइट का लिंक हैं वह खुल जायेगा

मान लीजिए कुछ गवर्नमेंट के एजेंसी के ऊपर कुछ चीज़े हैं जैसे प्रधान मंत्री आवास योजना चल रही हैं तो यहाँ पर गवर्नमेंट खुद आपको सर्विसेज प्रोवाइड करने वाली हैं तो यह जो लिंक होंगे जितनी भी गवर्नमेंट की वेबसाइट होती हैं उसके पीछे आपको.gov.in देखने को मिलेगा वह वेबसाइट end होगी .gov.in के साथ से तो अगर गवर्न्मेंट ने ही वह वेबसाइट लंच की होगी वह लिंक अगर आपके पास आएगा तो बस आपको इतना ही देखना हैं .gov.in मिल रहा हैं की नहीं और यह आपको एकदम साथ में मिलना चाहिए ऐसा नहीं की gov के बाद में कुछ आ गया और इसके बाद .in आ गया तो आपको यह देखना हैं के वह domain authentic हैं की नहीं मतलब वह जो domain हैं वह official government की हैं की नहीं तो मान लिगए कुछ एग्जाम होते हैं उसमे आपको पीछे आपको .nic.in देखने को मिलेगा तो आपको इन चीज़े का ध्यान रखना हैं की जो भी वेबसाइट आपके पास आयी हैं जो गोवेनमेंट , एग्जाम , से रिलेटेड हो तो आपको देखना हैं की उसके पीछे .gov.in और एग्जाम की हो तो .nic.in अगर ऐसी गवर्नमेंट की वेबसाइट जहा पर वह पीछे नहीं आ रहा हैं .com .org .in आ रहा हैं तो यह ऐसे डोमिन होते हैं जो कोई भी खरीद के कोई भी वेबसाइट बना सकता हैं

Domain age

अब जो तीसरा तरीका हैं पता लगने का वह जो यह हैं की वह जो वेबसाइट हैं वह बनी कब हैं मतलब उसकी domain की age क्या हैं क्या यह दो महीने पहले बनी हैं क्या यह एक साल पहले बनी हैं या यह बरसो से चली आ रही हैं तो किसी भी वेबसाइट की आगे देखने के लिए एक वेबसाइट हैं whois.net वहा पर आप पता कर सकते हैं की यह वेबसाइट कितनी पुरानी हैं

Google Index

अब चौथा पॉइंट यह हैं की आप गूगल से पता लगा सकते हैं की कौन सी वेबसाइट फेक हैं और कौन सी रियल हैं तो इसका पता कैसे लगये देखो जो भी वेबसाइट होंगी कही न कही शेयर होई होंगी कितने लोगी ने उसके बारे में बातयेगा भी होगा की ख़राब हैं या अच्छा हैं तो आप उस वेबसाइट के लिंक को गूगल में सर्च करंगे तो आपको रिजल्ट्स मिलेगा अगर उस रिजल्ट्स में और भी वेबसाइट उसको पॉइंट करेगी अगर गूगल में उसका लिंक नहीं आ रहा होगा तो हो सकता वह फेक हो इसिलय उसने गूगल के अंदर indexing off करके रखी होगी या यह भी हो सकता हैं की वह वेबसाइट इतनी फेक हैं की गूगल खुद बातना ही नहीं चाहता हैं की आप उस वेबसाइट पर ना जाओ इसिलय वह वेबसाइट गूगल पर नहीं देखई देती हैं

तो दोस्तों घुमा फिरा के बोले तो आप इन मेथड से पता लगा सकते हैं की कौन सी वेबसाइट रियल हैं और कौन सी फेक हैं अब यहाँ पर एक और चीज़ का ध्यान रखिए जो भी चीज़े होती हैं वह एकदम से लगा जाये 20000 की चीज़े 200 में तो सिंपल बात यह सब फेक यहीं आप तुरंत exit हो जाईये सिंपल लोई फ़र्ज़ी फ़र्ज़ी चीज़े चल रही हैं जैसे कोई वेबसाइट पर जाने के बाद वह बोल रहा हैं की 15 लोग या 25 लोग को बतयो या 15 लोग को शेयर करो तब वह चीज़े खुलेंगी तब आपको खुद का दिमाग लगाना हैं की 15 लोग को शेयर करने से ऐसे होने लगा तो जितने गरीब हैं वह आमिर हो जायँगे उनको paytm में फ्री में पैसा मिलेगा फ्री में कैमरा मिलेगा तो यह सब क्या करते हैं ADS से पैसा कमाते हैं ए वेबसाइट को प्रोमोट करने के लिए ऐसे मेसेजस लगा देते हैं whatsapp में और लोग forword करने लगते हैं क्युकी उनको ऐसा लगता हैं की ऐसा करने से उनको वह चीज़ मिल जाएगी किन्तु ऐसा नहीं होता हैं क्युकी वह फेक होती हैं

तो दोस्तों आप ऐसे पता लगा सकते हैं की कौन से वेबसाइट फेक हैं और कौन सी वेबसाइट रियल हैं अगर आपको कुछ नया सिखने को मिला तो निचे कमेंट करके ज़रूर बातयेगा आपसे फिर मिलते हैं अगले किसी एयर पोस्ट में bye

you can buy: dad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *